ऑनलाइन व ऑफलाइन व्यापार में से कौनसा ज्यादा बेहतर हैं?

Last updated 25 Feb 2020 . 1 min read



online business vs traditional business is online business better than the old style of business online business vs traditional business is online business better than the old style of business

आजकल लोग ऑफलाइन के साथ-साथ ऑनलाइन व्यापार भी बहुत करने लगे हैं क्योंकि इसे आसानी से घर बैठे किया जा सकता हैं व इसके लिए आपको कोई दुकान, स्टोर इत्यादि खोलने की आवश्यकता नही पड़ती है (What is offline business)। कुछ लोग ऑनलाइन व्यापार को महत्ता देते है तो कुछ ऑफलाइन व्यापार करना ही पसंद कतरते हैं (Online business vs traditional business)। यदि आप भी इन दोनों के बीच को लेकर आशंकित हैं तो आज हम आपको दोनों व्यापारों को करने के लाभ व हानियों के बारे में बताएँगे जिससे आप अपने लिए एक सही निर्णय ले सके (Online and offline business models)।

ऑफलाइन व ऑनलाइन व्यापार में अंतर (Advantages and disadvantages of converting a business from offline to online)

#1. स्थान (Difference between online and offline testing)

ऑफलाइन व्यापार में आपको अपनी कोई दुकान, स्टोर, मॉल इत्यादि खोलने की आवश्यकता पड़ेगी या फिर इसे आप छोटे स्तर पर अपने घर या कोई कमरा किराये पर लेकर भी कर सकते हैं। इसमें आपको उसका किराया, देखरेख इत्यादि को देखने की आवश्यकता पड़ेगी (Online vs offline business)।

जबकि ऑनलाइन व्यापार में आपको किसी सॉफ्टवेर इंजिनियर या कंपनी से अपनी एक अच्छी वेबसाइट बनवानी होगी। इसमें भी आपको पैसा देना पड़ेगा व यह पूरी तरह से आपके काम पर निर्भर करेगा कि आप किस प्रकार की वेबसाइट चाहते हैं। किन्तु ऑफलाइन व्यापार के मुकाबले इसमें आपका खर्चा बहुत कम आएगा।

#2. कर्मचारी (Difference between online and offline recruitment)

जब आपका काम बढ़ने लग जायेगा तो आपको ऑफलाइन व्यापार के लिए किसी कर्मचारी को रखना पड़ेगा जो आपकी सहायता कर सके। इसमें आपको उसको सैलरी देने के साथ-साथ कई अन्य सुविधाओं इत्यादि का ध्यान रखना पड़ेगा।

जबकि ऑनलाइन व्यापार में आप किसी से फ्रीलांस काम करवा सकते हैं और काम के अनुसार उसे पैसे दे सकते हैं। आप उसे एक फिक्स वेतन पर भी रख सकते हैं या प्रति काम के चार्ज के अनुसार। इसमें आपको बस उसे काम देना हैं व यह सुनिश्चित करना हैं कि वह एक निर्धारित समय अवधि में आपको सही काम करके दे दे।

#3. ग्राहकों तक पहुँच (Difference between online and offline customers)

ऑफलाइन व्यापार में आपकी ग्राहकों तक पहुँच सीमित रहती हैं व एक निश्चित क्षेत्र तक ही लोग इसके बारे में जानते हैं। ज्यादा से ज्यादा आप अपने शहर में लोकल समाचार पत्रों, लोकल चैनल, चौहारो इत्यादि पर पोस्टर छपवा कर अपनी दुकान का प्रचार कर सकते हैं।

जबकि ऑनलाइन व्यापार में आपके सामने पुरी दुनिया का बाज़ार खुला हैं। अब यह आप पर निर्भर करता हैं कि आप अपनी वेबसाइट पर कितना काम करते हैं व उसका SEO इत्यादि कैसे सुधारते हैं। आपकी वेबसाइट पर जितने ज्यादा यूजर आयेंगे व उसमे रुचि दिखायेंगे उतनी ही आपकी वेबसाइट की गूगल पर रैंकिंग अच्छी होगी व लोगों का विश्वास उस पर बढ़ेगा।

#4. सामान बेचना (Difference between online and offline shopping in hindi)

ऑफलाइन व्यापार में आपको इसमें सबसे ज्यादा लाभ हैं क्योंकि इसमें ग्राहक सीधे आपकी दुकान पर आएगा, सामान पसंद करेगा, वही भुगतान करेगा व सामान लेकर चला जायेगा। इसमें आपको इससे ज्यादा सरदर्दी लेने की कोई आवश्यकता नही हैं।

जबकि ऑफलाइन व्यापार में आपको ग्राहक को उसका सामान उसके घर तक पहुँचाना होगा। इसी के साथ आपका ग्राहक भारत के किसी भी क्षेत्र से हो सकता हैं। इसलिये इसमें आपको असीमित ग्राहकों का तो लाभ हैं किन्तु आपको निर्धारित अवधि में वह उत्पाद ग्राहक के गंतव्य तक पहुँचाना होगा।

#5. सुरक्षा (Difference between online and offline attacks)

ऑफलाइन व्यापार में आपको दुकान की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखना पड़ेगा। इसके लिए आप सीसीटीवी लगवा सकते हैं या कोई गार्ड भी बिठा सकते हैं। कोई ग्राहक के रूप में आपकी दुकान से सामान चुराने के उद्देश्य से भी आ सकता हैं इसलिये आपको इसमें चौकन्ना होने की भी आवश्यकता हैं।

वही ऑनलाइन व्यापार में आपको विभिन्न प्रकार के वायरस, धोखाधड़ी, इंटरनेट की समस्या इत्यादि का सामना करना पड़ सकता हैं। साथ ही इसमें भुगतान से संबंधित भी समस्या आ सकती हैं जैसे कि ग्राहक के बैंक से, आपके बैंक से इत्यादि।

इस तरह आपने जाना कि चाहे ऑफलाइन व्यापार हो या ऑनलाइन व्यापार, दोनों के ही कुछ लाभ हैं तो कुछ हानियाँ। अब यह पूरी तरह से आप पर निर्भर करता हैं कि आप किस व्यापार में ज्यादा कुशल तरीके से काम कर पाएंगे। बस इस बात का ध्यान रखिये कि जो काम आप आसानी से व मन लगा के कर सकते हैं आप उसी को करिए।

इन्हें भी पढ़ें:


15826176461582617646

Explore more on SHEROES

Share the Article :

Responses