1528707645fb_img_1447777721276
Kanika Gautam
24 Apr 2019 . 1 min read

देश में महिलाओं को दिए गए हैं ये कानूनी अधिकार


Share the Article :

mahila ke adhikar in hindi mahila ke adhikar in hindi

कानून की बात तो सभी करते हैं लेकिन जब असल मायने में कानून पर चलने की बात आती है तो सबसे पहले महिलाएं ही पीछे हटती हैं। कुछ तो परिवार का नाम खराब होने के डर से तो कुछ पुलिस वालों के डर से। लेकिन इससे भी बड़ा सच यह है कि अपने यहां की अधिकतर महिलाएं अपने अधिकार और हक के बारे में सही तरीके से जानती तक नहीं हैं।

क्यों न आज ही अभी महिलाएं अपने हित में कानून के सभी अधिकारों के बारे में जानें ताकि आने वाले समय में यदि उनके साथ कुछ गलत हो रहा हो तो वे खड़ी होकर आवाज उठा सकें।

#1. नि:शुल्क कानूनी सहायता का अधिकार

एक स्त्री के होने के नाते सबको यह पता होना चाहिए कि उसे भी कानूनी मदद लेने का अधिकार है और वह इसकी मांग कर सकती है।

दिल्ली उच्च न्यायाल के एक आदेश के अनुसार, जब भी बलात्कार की सूचना दी जाती है, वरिष्ठ अफसर को इसे दिल्ली लीगल सर्विसेज अथॉरिटी को नोटिस देना पड़ता है। इसके बाद ही कानूनी निकाय (लीगल बॉडी) पीड़ित के लिए वकील का इंतजाम करता है।

#2. बयान दर्ज कराते समय गोपनीयता का अधिकार

आपराधिक प्रक्रिया संहिता (क्रिमिनल प्रोशिजर कोड) की धारा 164 के तहत, बलात्कार की शिकार एक महिला जिला मजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दर्ज कर सकती है और जब मामले की सुनवाई चल रही हो तो किसी अन्य को वहां उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं है।

वह एक सुविधाजनक स्थान पर केवल एक पुलिस अधिकारी और महिला कांस्टेबल के साथ बयान रिकॉर्ड कर सकती है।

#3. किसी भी समय शिकायत दर्ज करने का अधिकार

बलात्कार किसी भी महिला के लिए एक भयावह घटना है, इसलिए उसका सदमे में जाना और तुरंत इसकी रपट न लिखाना स्वाभाविक है।

वह अपनी सुरक्षा और प्रतिष्ठा के लिए डर सकती है। इन बातों को ध्यान में रखते हुए सर्वोच्च न्यायालय ने फैसला दिया है कि घटना होने और शिकायत दर्ज करने के बीच काफी वक्त बीत जाने के बाद भी एक महिला अपने खिलाफ यौन अपराध का मामला दर्ज करा सकती है।

#4. गिरफ्तार नहीं होने और पूछताछ के लिए पुलिस स्टेशन न बुलाने का अधिकार

सर्वोच्च न्यायालय का कहना है कि महिलाओं को सूर्यास्त के बाद और सूर्योदय से पहले गिरफ्तार करने का अधिकार नहीं है।

यदि महिला ने कोई गंभीर अपराध किया है तो पुलिस को मजिस्ट्रेट से यह लिखित में लेना होगा कि रात के दौरान उक्त महिला की गिरफ्तारी क्यों जरूरी है।

साथ ही, सीआरपीसी (आपराधिक प्रक्रिया संहिता) की धारा 160 के तहत पूछताछ के लिए महिलाओं को पुलिस स्टेशन नहीं बुलाया जा सकता है।

#5. जीरो एफआईआर का अधिकार

एक बलात्कार पीड़िता सर्वोच्च न्यायालय द्वारा आदेश किए गए जीरो एफआईआर के तहत किसी भी पुलिस स्टेशन से अपनी शिकायत दर्ज कर सकती है।

कोई भी पुलिस स्टेशन इस बहाने से एफआईआर दर्ज करने से इनकार नहीं कर सकता है कि फलां क्षेत्र उनके दायरे में नहीं आता है।

#6. गोपनीयता का अधिकार

भारतीय दंड संहिता (इंडियन पीनल कोड) की धारा 228- ए पीड़ित की पहचान के खुलासे को दंडनीय अपराध बताता है। नाम या किसी भी मामले को छापना या प्रकाशित करना, जिससे उक्त महिला की पहचान हो सके, जिसके खिलाफ अपराध किया है, वह दंडनीय है।

#7. यौन उत्पीड़न मामले हल करने के लिए समिति

सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जारी एक दिशा निर्देश के अनुसार, सार्वजनिक और निजी हर तरह के फर्म के लिए यौन उत्पीड़न के मामलों को हल करने के लिए एक समिति को स्थापित करना अनिवार्य है।

यह भी आवश्यक है कि समिति का नेतृत्व एक महिला करे और सदस्यों के तौर पर पचास फीसद महिलाएं ही शामिल हों। साथ ही, सदस्यों में से एक महिला कल्याण समूह से भी हो। यदि आप एक इंटर्न हैं, एक पार्ट- टाइम कर्मचारी, एक आगंतुक या कोई व्यक्ति जो कार्यालय में साक्षात्कार के लिए आया है और उसका उत्पीड़न किया गया है तो वह भी शिकायत दर्ज कर सकता है।

यदि आपको कभी उत्पीड़न का सामना करना पड़ता है तो आप तीन महीने के भीतर अपनी कंपनी की आंतरिक शिकायत समिति (इंटरनल कंप्लेंट्स कमिटी)को लिखित शिकायत दे सकती हैं।

#8. विवाहित के साथ दुव्यर्वहार नहीं

आईपीसी की धारा 498- ए दहेज संबंधित हत्या की आक्रामक रूप से निंदा करतीहै। इसके अलावा, दहेज अधिनियम 1961 की धारा 3 और 4 न केवल दहेज देने या लेने के बल्कि दहेज मांगने के लिए भी इसमें दंड का प्रावधान है।

एक बार दर्ज किया गया एफआईआर इसे गैर- जमानती अपराध बना देता है ताकि महिला की सुरक्षा को सवालों के घेरे में न रखा जाए और आगे भी दुव्र्यवहार से बचाया जा सके।

किसी भी तरह का दुव्यर्वहार चाहे वह शाररिक या मौखिक, आर्थिक या यौन हो, धारा 498- एक के तहत आता है।

आईपीसी के अलावा, घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम 2005 (डीवी एक्ट) आपको संसाधनों का उपयोग करने में सक्षम बनाता है, जो उचित स्वास्थ्य देखभाल, कानूनी मदद, परामर्श और आश्रय गृह में मदद कर सकता है।

#9. तलाकशुदा का अधिकार

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 21 (जीवन का अधिकार) के तहत पत्नी को मौलिक अधिकार है कि वह अपने विवाह के टूट जाने के बावजूद विवाहित नाम का प्रयोग कर सकती है।

पूर्व पति के उपनाम का उपयोग करने से तभी रोका जा सकता है, जब वह इसका उपयोग बड़े पैमाने पर धोखा देने के लिए कर रही हो। एकल मां अपने बच्चे को अपना उपनाम दे सकती है।

#10. सहमति के बिना तस्वीर या वीडियो अपलोड करना अपराध

सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम (आईटी एक्ट) की धारा 67 और 66 ई गोपनीयता के उल्लंघन के लिए सजा से निपटने और स्पष्ट रूप से सहमति के बिना किसी भी व्यक्ति के निजी क्षणों की तस्वीर को खींचने, प्रकाशित या प्रसारित करने से मना करता है।

आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम 2013 की धारा 354 सी जिसे वॉयरिज्म सेक्शन के तौर पर भी जाना जाता है, किसी महिला की निजी तस्वीरें को कैप्चर या शेयर करने को अपराध मानता है।

#11. दंडनीय अपराध स्टॉकिंग

निर्भया केस के बाद के कई मामलों में स्टॉकिंग को आपराधिक कानून (संशोधन) अधिनियम 2013 के तहत भारतीय दंड संहिता की धारा 354 डी के तहत अपराध के तौर पर जोड़ दिया गया।

यदि आपका पीछा किया जा रहा है तो आप राष्ट्रीय महिला आयोग (एनसीडब्ल्यू) को एक ऑनलाइन आवेदन के माध्यम से अपराध की रिपोर्ट दर्ज करा सकती हैं। एक बार जब एनसीडब्ल्यू को इसके बारे में पता चलता है तो वह इस मामले को पुलिस के समक्ष उठाती है।

#12. समान वेतन का अधिकार

समान पारिश्रमिक अधिनियम 1976 समान कार्य के लिए पुरुष और महिला श्रमिक दोनों को समान पारिश्रमिक से भुगतान का प्रवधान करता है। यह भर्ती और सेवा शर्तों में महिलाओं के खिलाफ लिंग के आधार पर भेदभाव को रोकता है।

#13. मातृत्व, चिकित्सा और रोजगार से संबंधित लाभ का अधिकार

माातत्व लाभ अधिनियम 1961 प्रसव से पहले और बाद में निश्चित अवधि के लिए प्रतिष्ठानों में महिलाओं के रोजगार को नियंत्रित करता है और मातृत्व लाभ एवं अन्य लाभों के लिए प्रदान करता है।

#14. कन्या भ्रूण हत्या के खिलाफ अधिकार

मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी एक्ट 1971 मानविकी और चिकित्सा आधशर पर पंजीकृत चिकित्सकों द्वारा गर्भ धारण की समाप्ति के लिए अधिकार प्रदान करता है। पूर्व गर्भाधान और प्री नेटल डायग्नोस्टिक तकनीक (लिंग चयन पर प्रतिबंध) अधिनियम 1994, गर्भाधान से पहले या बाद में लिंग चयन पर प्रतिबंध लगाता है और कन्या भ्रूण हत्या के लिए लिंग निर्धारण के लिए प्रसव पूर्व निदान तकनीक के दुरुपयोग को रोकता है।

#15. संपत्ति का अधिकार

हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम 1956 पुरुषों के साथ समान रूप से पैतृक संपत्ति विरासत में महिलाओं के अधिकार की मान्यता देता है।

अंततः

याद रखें ज्ञान में शक्ति होती है। एक माँ, पत्नी, बेटी, कर्मचारी और एक महिला के रूप में आपको अपनी सुरक्षा के लिए निर्धारित अधिकारों के बारे में जानना चाहिए। यह महत्वपूर्ण है कि आप इन के बारे में जागरूक रहें।

जब आप अपने अधिकारों के बारे में अच्छी तरह से जानते हैं, तब आप घर पर, कार्यस्थल पर, या समाज में आपके साथ हुए किसी भी अन्याय के खिलाफ आवाज उठा सकेंगे।

पढ़ें हमारे और दूसरे हिंदी लेख ​- 


15560896671556089667
Kanika Gautam
An ardent writer, a serial blogger and an obsessive momblogger. A writer by day and a reader by night - My friends describe me as a nocturnal bibliophile. You can find more about me on yourmotivationguru.com

Explore more on SHEROES

Share the Article :

Responses

  • K*****
    Meri do Shaadi ho gayi hai pahle pati se mujhe do betiyan thi usme se ek beti mere paas ek beti unke paas thi 6 saal Tak main chhoti beti ko apne paas rakha uske baad mere Ghar walon ne Mera divorce karwane ke liye baat kari to woh log bole divorce job denge jab chhoti beti dengue mere Papa ne Diya aur mera divorce karwa Diya phir Meri dusri shaadi kari mujhe bacche nahi hue main apni behan se beta God liya Jo beta nau mahine ka tha tab mere husband mujhe bahut mara aur main us din apne bete ko lekar apne Ghar walon Ke paas aa gayi aaj Mera beta 4 saal ka hai aur aaj main apne ghar par hoon main apne husband se divorce nahi liya sab log bolte hain kharch karlo divorce lelo par mein nahi leti Hai Kya karoon main main job karti hoon apne bete ko apne dam rakh Rahi Hoon kisi se Koi paise nahi leti main home service karti Hoon main beautician Hoon main Kya karoon bataiye
  • A*****
    Mie apne pti se bhut dukhi hu wo dusri ouret le aye h mere koi baby n tha ab uske ek ldka ho gaya h wo ouret hum se bhut ldtee h galiyan dete h pti be usko humre saath rkha h me neeche rhti hu wo uper rhti h pti usse but derte h wo sb ko galiya deti h us se much nhi khte humse hi khte h uski habit h tum chup rho mere maa father expire ho gaye h brother nhi h meri ek sister h uski baat nhi mante m bhut press an rhti hu me kiya Kru house mere naam h per pti usko alg nhi rkhte muje bhut torcher kerte h
  • S*****
    Aapko jana chahey .
  • S*****
    Kya muje btao gy. Ki pati apni 6month k bchy k bad apni patni ko ek sal se ni ly jaya. Ar ab wo interested ni ho. Ly jane m. To m kya kru
  • S*****
    Hlo
  • D*****
    मै जानकारी चाहती हूं के मेरे पति के समय वेतन सम्पत्तियों पर स्वअर्जित हो या पुश्तैनी कोई अधिकार है या नहीं।क्या वो खर्च की अधिकता का हवाला दे कर पत्नी की जरूरत को नजरअंदाज कर ने का अधिकारी है।
  • M*****
    Jb ek ladi ka husband expair ho jaye or uske sath ek beta bhi he or wo ladi bimar he uske pass koi income nhi he uska gujara uske pihar walo ki help se chal rha he. Uske sasural wale use uska hissa bhi bhi dege,or use gr se nikl jane ko bhi khte he, to kya us ladi or bacche ka koi hk nhi he wo apna pet kis se bharegen kase gujara chalaye ge wo pihar walo ki help nhi lena chahti, use uska hk chahiye, to ab btaiye ki wo kya kre uski help kiye.
  • U*****
    Kya ek mahila jo aapne pati se pidhit h vo aapne pati se freedom kaise le
  • S*****
    Nice
  • P*****
    Mere to samjh hi ni aata ki kyu akhir kyu hm ye sub bardash kre akhri hmri bhi to life h kab tak hm sub eak mard ke piche chalenge kab tak bs ab to yahi samjh ni aa rha h
  • S*****
    @kanika mam Plz mujhe guide kre...Meri shadi ko 10 year ho Gaye h or 4 yr ka ek beta bhi h but Mera husband ka kafi ladkiyo k sath phiycal relation h Maine uske family members see bhi bat ki but wo nahi sudhra tb maine last m apni self respect ko choose Kia or ghr chod Diya or bete ko lene ki kosis ki to nahi lene dia Maine 2 month pahle divorce k liye apply kr dia or sath hi custody k liye bhi but abhi tk kuch nhi hua or essi time k bich usne mere office aakar mujhse maar peet ki or Mera phon le Gaya Maine police complaint ki to usne police ko paise khilaye or police wale mere upaar hi hawi ho Gaye but Maine apne lawyer ko sath rakha to usne sambhal liya sb but abhi to police ne koi bhi report nahi di Kya kru mai...mere husband ne kaha h chahe kuch bhi ho Jaye m divorce nahi dugga or even ab wo sb jagah ye bol Raha h ki Mera affair chal Raha h mujhe Kya krna chahiye jisse mujhe esse jaldi see divorce mil Jaye or Mera baby mujhe mil Jaye..plz help me mam...
  • M*****
    hlw mam...actually meri prblm ye h ki me abhi 18 saal ki hu jb me 16 saal ki thi..tb meri shadi meri bua k ldke k sath krwayi thi qki wo gov.job ko tha....shadi se phle hi jese normal couples bat krte h wese usne kbhi ki nahi...nahi shadi k bad....dinbhar me b wo ekdm ese rhta h ki jese strnager ho...or rat me achanal pass aa jata ...lekin me bs yeh chahti hu ki wo pyar kre care kre trust kre or fir physical ho...pr wo phle hi physical hona chata h hamare shadi ko abhi 2 saal ho gye h lekin me abhi b usle sath physical nhi ho payi hu..or en 2 salo me hm bss 2 mhine sath me rhe h....baki me apne mummy k ghar hi hu...ab wo muje nahi le jana chata or divorce dena chata h....mere family wale bht force lr rhe h ki me uske sath physical ho jau ...ye feelings wishesh kuch nhi rhta ek aurat k liye hmne b apna ghar ese hi basaya h esa unka manana...kya muje suchme forcefully ye sb krna chahiye...ya meri expectations shi h...plz reply dijiyega...me bht stress me hu...
  • P*****
    हेलो फ्रेंड्स मेरा नाम प्रीति है मेरीशादी को 2 साल मई में होंगे मेरे हस्बैंड का rista पता नहीं कितनी लड़कियों से है मेरी तीनों ननंद और सास को सब कुछ पता था कि उनका किसी और लड़की के साथ संबंध है फिर भी उन्होंने मेरी शादी उनसे करवा दी मेरा एक बेटा है जो 6 महीने का है ना उसकी कोई kadr है ना मेरी मैं विकलांग हूं कि चीज हम लोगों ने पहले ही क्लियर कर दी थी और वह सब मुझे देखने भी आए थे इसके बावजूद वह लोग मुझे इस बात का ताना मारते रहते हैं कि मेरे पैर में प्रॉब्लम है लंगडी लंगडी क्या कि हमसे बातें करते हैं और अपने बेटे को सुधारने का नाम तक नहीं लेते जिसमें इतनी सारी कमियां है जब मेरे पेट में बेबी था तब से वह मुझे यहीं पर छोड़ कर चले गए थे फिर फिर 2 महीने के लिए लेकर गए और उसके बाद मुझे दोबारा से मेरे घर पर छोड़ कर चले गए अब जब मैंने उन लोगों से अपने बारे में पूछा तो उन लोगों ने कहा कि उन्हें मेरी और मेरे बच्चे की कोई जरूरत नहीं है मेरी सांस में भी बोल दिया कि कि उनको भी मेरी जरूरत नहीं है अब मैं और मेरा बच्चा कहां जाए मैंने उन लोगों से बोला कि मैं मुझे मेरा खर्चा चाहिए उन लोगों ने बोला कि तेरा पति कुछ नहीं करता तुझे तुझे खर्चा कहां से मिलेगा और ना ही तुझे 1 गज भी जगह मिलेगी मुझे इसके लिए क्या करना चाहिए मेरी सास के नाम है सब कुछ तो क्या मैं और मेरा बेटा बेसहारा लोगों की तरह अपना जीवन व्यतीत करेंगे सास का जब मन होता है वह मुझे घर से बाहर निकाल कर खड़ी कर देती है कि यह घर तेरे बाप का याद तेरी नहीं है और मेरा ससुर मुझसे इतनी गंदी गंदी और अभद्र बातें बोलता है जिन्हें मैं बता भी नहीं सकती मुझे क्या करना चाहिए मुझे आप लोगों की हेल्प की जरूरत है
  • B*****
    Mera ek beta Hua expire Ho Gaya Kyunki Mujhe thyroid ki dikkat hai aur mujhe apna ilaj Karana Hai Tu Meri Saanse Mujhe ilaj karande nahi de rahi doctor ne Meri report mein samasya Bataye main Unhe bahut Samjhane ki koshish ki parava samajhne ke liye taiyar Nahin wow Hua Jahan Rehte Hain Wahan chikitsa ka Sahi hi Sada nahi hai na hai Wahan Aankh acche sonografi ki machine Ha to aap mujhe kuch to jawab dijiye
  • K*****
    Thank u mam ye information Dene k liye
  • V*****
    Hi mam Agar koi mahila divorce le aur dusri sadi karna chahti hai aur apne sath apni pehli sadi se koi ladka ya ladki ho aur use sath rakhna chahti hai to hamare kanun me aisa koi adikar nahi diya hai ki wo aurat anpe bacho k pi6e apne bap ka name badl sake agar koi dusri sadi k doran apne bacho k name k pi6e bap ka name badlna chahe ho badl sake aisa koi niyam hona chahiye? Plz ap sab ko kya lagta hai plz comment karo
  • J*****
    Nice
  • D*****
    Nic information mam
  • D*****
    Very Nice information thank you dear 🙏
  • K*****
    Thank u ma'am itni aachi information dene ke leye
  • S*****
    thanks
  • D*****
    Thanks mam very important information
  • S*****
    Very important information ma'am...Thank you very much ..awareness honi bahut jaruri hai..sabhi k liye..taki wo apne adhikaro ko jan sake
  • J*****
    Hloo mam
  • D*****
    Hello
  • R*****
    Meri Raye se to us shrabi insaan ko chod dena chaiye..or aap khai job try krlo aap akLe apna or bcho ka kr skti h so don't worry
  • R*****
    mai ek a vivahita hu or merr pati sharab pee kr mere or mere bachho k sath maar pit gali galoch krte h or mai bht pareshan rehti hu 20 saal ho gy bhugte bhugte mujhe samjh nahi aata mnkya karu???
  • R*****
    Bahut achchha post
  • N*****
    Very very nice post ji
  • V*****
    Nice post mahilao k liy janna bhut jaruri hota hai
  • R*****
    Mujhe ye jankari chahiye ki Kya me widow Hone k bavjud bhi apne eklote better k sath nahi rah sakti , jo abroad he or Mera PR. bhi that vaha ka,par bahu kahti he ki me apne hi parents ko rakhungi, ye kahe k mujhe wahw se do_teen bar marke nikal Diya or apne parents ko bula leti he..,jo ki uske ma, Papa dono he.muje apne bete see alag rhne ko majbur karti he.to me Kya kar Shakti hu please batayie
  • S*****
    Plz mujhe ye jankari chahiye ki agar husband bahar job karte h or wo apni wife ko apne sath rakhne me bahane banaye or us bich wo kisi or k sath time pas kr rahe h to iske liye koi law h,jise follow karke apne husband k sath rah sake or husband koi bahana bhi na bana paye.plz info.
  • G*****
    Nice this knowledge
  • N*****
    Thankyou.so much mam for all thease informations about women rights.
  • D*****
    Very nice knowledge
  • U*****
    Nice one...knewlodgeable..useful