1560844218spardha-author-profile
Spardha Mann
18 Jun 2019 . 1 min read

पहली बार अपना रिज्यूमे कैसे बनाये ?


Share the Article :

resume kaise banaye resume kaise banaye

सुरभि ने अभी कॉलेज की पढाई पूरी की है। वह नौकरी करना चाहती है लेकिन उसे यह नहीं पता है कि नौकरी के लिए कहां- कहां जाना चाहिए और इसके लिए किस तरह की प्लानिंग की जरूरत है।

नौकरी ढूंढने जैसा शब्द जितना आसान लगता है, उतना आसान नहीं बल्कि कई मायने में मुश्किल जरूर है। लेकिन अगर आप नौकरी ढूंढने कि पहली सीढ़ी यानी रिज्यूमे को सही तरह से बना लेती हैं तो आपकी यह समस्या काफी हद तक दूर हो जायेगी।

अपनी इसी समस्या को दूर करने के लिए सुरभि अपने टीचर के पास मदद के लिए जाती है, जो उसे रिज्यूमे बनाने का बेसिक फंडा बताते हैं।

एक अच्छे रिज्यूमे को बनाने के लिए परेशान होने की बजाय समझदारी से काम लेना चाहिए। यदि आपके पास सही रिज्यूमे हो तो नौकरी के लिए ऑफिस वालों पर आपका अच्छा असर पड़ेगा।

इसके लिए आपको सबसे पहले यह समझने कि जरूरत है कि रिज्यूमे सिर्फ इस बात के लिए नहीं बनाया जाता कि आपके पास क्या है और क्या नहीं है। अमूमन लोगों की यही सोच रहती है कि रिज्यूमे इसी बात के लिए बनाया जाता है, जो कि सही नहीं है।

रिज्यूमे आपको इंट्रोड्यूस करने के लिए बनाया जाता है और आपको यह बताने के लिए प्लेटफॉर्म देता है कि आप असल में क्या हैं, इंटरव्यू के दौरान या बातचीत के दौरान नौकरी देने वालों को इससे मदद मिलती है।

रिज्यूमे बनाते समय आपको तार्किक ढंग से सोचना चाहिए और उन क्षेत्र को हाईलाइट करना चाहिए, जिनमें आप एक्सपर्ट हैं।

आपकी स्किल्स को बताने वाले अनुभव रिज्यूमे के पन्ने पर होने चाहिए, साथ ही वे हॉबीज भी, जो आप असल में दिखाना चाहते हैं। रिक्रूटर के पास इतने रिज्यूमे आते हैं कि आपके रिज्यूमे में जब तक कुछ अलग नहीं दिखेगा, वह आपको नौकरी के लिए फोन तक नहीं करेगा।

इसलिए अपना रिज्यूमे बनाते समय आपको ऐसा कुछ करना होगा, जिससे कि वह आपको फोन करने के लिए बाध्य हो। सुरभि के टीचर ने सुरभि को रिज्यूमे बनाने के ये कुछ बेसिक फंडा बताएं-

 

#1. व्हाइट स्पेस का सही इस्तेमाल:

अपने रिज्यूमे पर दोनों ओर एक इंच मार्जिन जरूर छोड़ें और विभिन्न सेक्शन के बीच खाली जगह भी ताकि रिज्यूमे पर लिखीं चीजें अलग- अलग दिखें। फॉण्ट हमेशा सिंपल होने चाहिए। फॉण्ट का साइज १२ से १३ के बीच ही होना चाहिए।

#2. अपने क्षेत्र का सार:

अपने बारे में वह सब लिखें, जो आपको लगता हो कि रिक्रूटर  जान कर आपको नौकरी के लिए बुलाएगा। ऐसा लिखें जिससे आपकी नौकरी करने की खूबियां निखर कर सामने आएं। इसके लिए अगर आपको समय लग रहा है तो पूरा समय दें लेकिन सोच कर लिखें। बेहतर तो होगा कि आप पहले अपनी खूबियों को अलग कागज पर लिख लें और फिर उसमें से चीजों को छांट कर रिज्यूमे के लिए रेडी करें।

#3. पहला इम्प्रेशन हो सही:

जब भी आप किसी संभावित एम्प्लॉयर के पास जाते हैं तो आपका रिज्यूमे आपकी पहचान की तरह दिखना चाहिए। इसलिए यह सुनिश्चित कीजिये कि आप इसे छोटा रखने के साथ ही इन्फॉर्मेशन वाला रखें। अपने स्कूल के कैप्टन आप रह चुके हैं, यह बताने की बजाय यह बताएं कि आपमें लीडरशिप गुण हैं। इस तरह से इंटरव्यू लेने वाले को आपसे बात करने का मौका मिलेगा। इसी समय आप अपनी लीडरशिप वाली गुण के बासे में खुलकर बता सकती हैं।

#4. खूबसूरत भाषा नहीं:

जब भी आप एक रिज्यूमे बना रही होती हैं, सारे खूबसूरत शब्दों को लिखने से बचें। रिज्यूमे हमेशा सीधा और बिना घुमे- फिरे शब्दों का होना चाहिए। और हां, सुनिश्चित यह भी करें कि रिज्यूमे की भाषा समझने लायक, रुचिकर और छोटी हो। लंबी लाइन्स संभावित रिक्रूटर्स की रूचि को खत्म कर देती हैं। अच्छी भाषा का इस्तेमाल करें लेकिन उतनी ही जितनी कि रिक्रूटर्स को गूगल करने कि जरूरत महसूस न हो।

#5. फॉर्मेट करना जरूरी:

अपने रिज्यूमे को सही तरह से फॉर्मेट करके प्रिंट करवाएं। कई बार सही उम्मीदवार भी मौका पाने से चूक जाते हैं क्यूंकि उनकी फॉर्मेटिंग सही तरीके से नहीं होती है।सुनिश्चित करे कि आपने अपने रिज्यूमे में सही जगह पर स्पेस दिया हो, मार्जिन सही हो, और फॉण्ट भी। बहुत छोटे फॉण्ट अच्छे नहीं बल्कि अजीब दिखते हैं और इन्हें पढ़ने से आँखों पर जोर पड़ता है। बहुत बड़े फॉण्ट भी अजीबोगरीब दिखते हैं। रिज्यूमे की फॉर्मेटिंग साफ़ होनी चाहिए। अतिरिक्त मार्जिन्स न हो, रंग-बिरंगे न हों और बड़े शब्द न हों। मार्जिन इवन हो और सेक्शनल हेडिंग भी। रिज्यूमे का प्रोफेशनल दिखना बेहद जरूरी है। हेवी फॉर्मेटिंग से प्रोफेशनल लुक खत्म हो जाता है।

#6. रेफरल:

यदि आपको रेफरल चाहिए तो आपने जान- पहचान वालों से पूछें। अपने टीचर या अपने सीनियर से। हो सकता है कुछ तैयार हो जाएँ और कुछ न भी हों। यदि आप नौकरी के क्षेत्र में नयी हैं तो यह न सोचें कि आपको कौन रेफर करेगा, सोचें कि आपने कॉलेज में क्या अच्छा किया था और अपने सीनियर्स से रेफरल के बारे में पूछें।

#7. अपनी ताकत दिखाएं:

यह आपके रिज्यूमे का महत्वपूर्ण हिस्सा है। जब आप इसे सही तरीके से प्रेजेंट करेंगी तो यह आपके रिज्यूमे को आगे बढाता है। इसका मतलब यह भी नहीं है कि आप अपने सारे मजबूत गुण यहाँ लिख दें। सीधे तौर पर अपने उन गुणों के बारे में लिखें जैसे – आप टीम बनाने में माहिर हैं, टीम को अच्छी तरह से चला भी सकती हैं, कुछ इस तरह से की आपका अनुभव इसमें दिखे।

#8. अतिरिक्त अनुभव:

आपने कॉलेज में जो अतिरिक्त काम किया था, उसे भी शुरूआती दौर में रिज्यूमे में डाला जा सकता है, बल्कि डालना ही चाहिए। आप जिन सोसाइटी का हिस्सा रहे हैं, उनके बारे में बता सकते हैं, जो प्राईज जीता है, उसके बारे में लिख सकती हैं। चैरिटी फायर से लेकर इवेंट, जिनका आप हिस्सा रह चुके हैं, वह सब लिखें। इन सबके बारे में आपको ठीक से पता रहना चाहिए, रिक्रूटर कुछ भी पूछ सकता है।

#9. सही दिखाएं:

अपनी विशेषताओं को सबसे ऊपर लिखें। इनके बारेमे सही तरीके से बताएं। जहाँ जरूरत हो, वाहन बोल्ड करे। सिर्फ यह बताना कि आपने एमबीए किया है, काफी नहीं होगा। अपनी विशेषता पर जोर दें। आपने एमबीए में क्या किया, आपकी विशेषता क्या रही, इस पर फोकस करें।

#10. स्किल्स भी जरूरी:

एक रिज्यूमे में यह हिस्सा पॉजिटिव फर्क भी ला सकता है और निगेटिव भी। इसलिए इसके बारे में सोच- समझकर लिखें। अधिकतर उम्मीदवार कंप्यूटर प्रोग्रामिंग जैसा रैंडम स्टफ लिख देते हैं, जो बहुत विस्तृत है। इसकी जगह पर यदि आप उन छोटे प्रोजेक्ट्स के बारे में लिखें, जो आपने पूरे किये हैं तो वह ज्यादा अच्छा और प्रभावी होगा। अपनी भाषा कि काबिलियत के बारे में भी सही तरह से लिखें। इस तरह से सामने वाले पर यह असर पड़ेगा कि आप मल्टी-टास्कर हैं। लेकिन सुनिश्चित यह करें कि यह सब बहुत लंबा भी न हो।

#11. कॉपी पेस्ट नहीं:

इंटरनेट के कई फायदे हैं तो कुछ खराब चीजें भी हैं। आपको यहाँ कई टेम्पलेट्स मिल जायेंगे, जिसमें कई आईडियाज भी हैं। हो सकता है कि आपको वे अच्छे लगें लेकिन सब आपके काम नहीं आ सकते हैं। इतनी तरह के रिज्यूमे को देखकर हो सकता है कि आप कन्फ्यूज हो जाएँ और उन सबको अपने रिज्यूमे में शामिल करना चाहें। यह सबसे खराब आईडिया है अपने रिज्यूमे को बनाने का। यह याद रखिये कि रिक्रूटर मुर्ख नहीं हैं। वे जहाँ बैठे हैं, उन्हें सब कुछ पता होता है।

#12. क्या करें, क्या न करें:

रिज्यूमे बनाते समय कुछ खास चीजं उसमें नहीं होनी चाहिए। पर्सनल डिटेल जैसे घर का पता और फोटो तो बिलकुल नहीं होना चाहिए। इन्टरनेट के इस दौर में यह सब फिजूल है। यदि एक रिक्रूटर को कुछ भी देखना होगा तो वह एक क्लिक की मदद से सोशल मीडिया का सहारा ले सकता है। इसके अलावा, इस बात का भी ध्यान रखें कि आपके रिज्यूमे में आपने अपनी जो ई- मेल आईडी लिखी है, वह प्रोफेशनल दिखनी चाहिए। कुछ लोग कूल जैसे शब्द अपनी ई-मेल आईडी में डाल देते हैं, यह बिलकुल भी अच्छा नहीं दिखता है। सुनिश्चित करें कि आपकी ई-मेल आईडी में कुछ भी अनप्रोफेशनल या इधर- उधर का नहीं होना चाहिए। अपने रिज्यूमे के साथ कवर लेटर जरूर अटैच करें। और अपनी जॉब कि ऐप्लिकाशन के हिसाब से अपने रिज्यूमे को थोडा- बहुत कस्टमाइज जरूर करना चाहिए। कई लोग काबिलियत होते भी नौकरी का अवसर गंवा देते हैं क्योंकि वे अपने रिज्यूमे में हेड लाइन लिखना भूल जाते हैं।

नौकरी के लिए सही रिज्यूमे बनाना कोई बड़ी बात नहीं है, बस इसके लिए कुछ हां और कुछ ना हैं। सही भाषा और सही चीजें अपने रिज्यूमे में जोड़कर आप भी अपने सपनों की नौकरी को पा सकती हैं।

पढ़ें हमारे और दूसरे हिंदी लेख ​- 


15608510351560851035
Spardha Mann
नौ सालों का मेनस्ट्रीम प्रिंट मीडिया का अनुभव. उसके बाद प्रिंट और डिजिटल मीडिया में फ्रीलांसिंग. 3 किताबों की अनुवादक भी.

Explore more on SHEROES

Share the Article :

Responses

  • P*****
    Bht acheeeee
  • A*****
    Kya Abhi tak jo stream Rahi wo chodker nayi stream Mai Jana ho to job experience Mai kya likhna chahiye. Plz answer
  • P*****
    Nice... thankyou
  • A*****
    Very good
  • G*****
    Nice information