1528707645fb_img_1447777721276
Kanika Gautam
12 Apr 2019 . 1 min read

सपने देखने और उसे पूरा करने की जिद पालने वाली वृंदा दुगर


Share the Article :

vrinda dugar ke sapne aur unko pura karne ki zid vrinda dugar ke sapne aur unko pura karne ki zid

एक छोटी सी बच्ची थी। उसे हमेशा से क्राफ्ट बनाना, पेंटिंग करना और ग्रीटिंग काड्र्स बनाने का शौक था। साथ ही ढेर सारी किताबें पढ़ने का भी।

बारहवीं की परीक्षा देने के बाद ही उसकी पहली पेंटिंग जब 500 रुपये में बिक जाने का हौसला रखती है तो सोचिए कि वह लड़की कैसी होगी?

वह इतनी खुश और हौसलामंद हो गई थी कि उसे अपनी जिंदगी का लक्ष्य तभी मिल गया।

इस खुशमिजाज और हौसलापरस्त लड़की का नाम वृंदा दुगर है, जिसने अपने बलबूते अपनी मेहनत से नाम और मुकाम कमाया है।

वृंदा दुगर उस हौसले का नाम है, जिसने दो बार ठुकराए जाने के बाद भी थमने और रुकने का नाम नहीं लिया। वृंदा खुद बताती हैं, एक गैलरी मालिक ने मेरे काम को फालतू बता दिया था।

उसके बाद से मेरे अंदर खुद को साबित करने का जुनून सा सवार हो गया। एक अन्य घटना के तहत एक कला प्रतियोगिता के लिए अपनी दो पेंटिंग्स जमा करने मैं एक प्रतिष्ठित नेशनल आर्ट एकेडमी गई थीं।

vrinda dugar ki paintings

वहां के क्यूरेटर ने मेरी पेंटिंग्स को खराब बताने के बावजूद भी रख लिया। एक महीने बाद जब मैं अपनी पेंटिंग्स लेने पहुंची तो मैंने देखा कि मेरी पेंटिंग्स वहां शीशे के कमरे में दरवाजे पर लगी थी ताकि दूर से दिख सके। बाद में वहां के सहायक ने बताया कि लोगों को मेरा काम इतना पसंद आया कि उन्होंने उसे इस तरह से लगाया कि सबकी नजर दोनों पेंटिंग्स पर जाए। उस समय मेरी खुशी का ठिकाना नहीं था।

सही मायने में वृंदा की यात्रा उनके सोलो एग्जिबिशन से शुरू हुई, जब वह केवल 19 साल की थी और कॉलेज में पढ़ रही थी। उस समय उनकी चौदह पेंटिंग्स सिर्फ एक दिन में बिक गई थी। उसके बाद ही वृंदा के पास पेंटिंग के ऑर्डर आने शुरू हो गए।

वृंदा बताती हैं, उस दौरान मैं ऑर्डर पूरा करने के साथ ही अपनी पढ़ाई भी कर रही थी। असल में मैं उस समय बहुत खुश थी और उसी का नतीजा है कि मैंने अपनी इंग्लिश लिटरेचर में मास्टर्स की पढ़ाई अच्छे से पूरी की।

vrinda dugar ki sheroes post

अपने पहले सोलो एग्जिबिशिन के बाद वृंदा ने डिजाइनिंग, प्रिंटिंग और टेक्सटाइल की बारीकियों को ऑनलाइन रिसर्च और यूट्यूब वीडियो के माध्यम से सीखा।

अपने पोर्टफोलियो के साथ जब उन्होंने रतन टेक्सटाइल्स से संपर्क साथा तो उन्हें वृंदा का काम पसंद आया। वृंदा कहती हैं, उन्होंने ने ही मुझे डिजाइन के बारे में शुरुआत से बताया।

तभी मेरे दिमाग में आर्ट बाय वृंदा का आइडिया आया। आज मैं भारत और विदेश दोनों जगह के लोगों के पर्सनल कलेक्शन्स पर काम कर रही हूं। मेरे पेंटिंग्स राजस्थान के विभिन्न नामी होटलों और रिजॉट्र्स की दीवारों पर भी लगे हैं। सूरत की एक टेक्सटाइल कंपनी के साथ मैंने साझेदारी भी की है, जो बॉलीवुड और सेलिब्रिटी डिजाइनर मनीष मल्होत्रा के साथ करीब से जुड़े हुए हैं। इनके साथ मिलकर मैं जयपुर में एक डिजाइनर स्टूडियो सेट कर रही हूं, जिसकी मैं डायरेक्टर और क्रिएटिव हेड हूं।

वृंदा की कला उन्हें रुकने नहीं देतीं। तभी तो इस क्षेत्र में दिनोंदिन आगे बढ़ रहीं वृंदा अपने मन को खोलते हुए बताती हैं, मैं यह मानती हूं कि यह सब करना आसान नहीं था।

कोलकाता में जन्मी एक मारवाड़ी हूं, जिसका पालन- पोषण बेंगलूरू में और बाद में जयपुर में हुआ। मेरे मम्मी- पापा कला और डिजाइनिंग में मेरे करियर को लेकर खुश नहीं थे लेकिन मैंने खुद को साबित करने के लिए उनसे छह महीने मांगे।

उनकी भी चाहत थी कि मैं शादी कर लूं लेकिन मेरी प्राथमिकता में अपना बिजनेस शुरू करना और अपनी पसंद के क्षेत्र में नाम कमाना शामिल था।

मेरे लिए यह आत्म-सम्मान का मामला भी था। मैं जानती थी कि मैं अपने टैलेंट पर भरोसा कर सकती हूं। मुझे इसके लिए किसी पुरुष की आवश्यकता नहीं थी।  

उस समय वृंदा ने पारिवारिक आयोजनों में जाना छोड़ दिया था क्योंकि बात कहीं न कहीं से आकर उनके विवाह या काम पर रुक जाती।

vrinda dugar magazine

स्वयं को अपनी सबसे बड़ी प्रेरणा बताने वाली वृंदा आगे कहती हैं, कम काम और परिवार की ओर से बढ़ते दबाव के बीच मैंने सोशल मीडिया पर शीरोज को देखा और जाना कि किस तरह से ये लड़कियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए काम कर रहे हैं। मैंने यह भी देखा कि यहां स्टार्ट- अप से लेकर आर्ट एंड रिलेशनशिप, कुकिंग सबके लिए अलग कम्यूनिटी बनी हुई है। इसने मुझे उत्साहित किया और मैंने आर्ट एंड क्राफ्ट कम्यूनिटी को ज्वाइन कर लिया।

उसके बाद से मुझे जो रिस्पॉन्स मिला, उससे मैं खुशी से भर गई। इसने कई मौके देकर मेरी यात्रा में योगदान दिया है।

आज मेरा परिवार मुझ पर गर्व करता है। मेरे डिजाइन स्टूडियो को तैयार करवाने में मेरे पापा सहयोग कर रहे हैं। जब मैं अपने पापा के चेहरे पर अपने लिए गर्व का भाव देखती हूं तो मेरे अंदर जीत, खुशी, संतुष्टि और स्व- मूल्य के भाव अपने आप आ जाते हैं।

खुद को सीधी- सादी, भरतनाट्यम  डांसर, योगा उत्साही और किताबी कीड़ा कहने वाली वृंदा 600 किताबों की लाइब्रोरी वाले घर में रहती हैं । अपने बचपन के दोस्त से विवाह के बंधन में बंधकर जीवन का नया अध्याय शुरू करने जा रही वृंदा युवाओं को संदेश देती हैं, हमेशा अपने दिमाग और जोश के साथ दिल की सुनो क्योंकि जुनून सब पर हावी हो जाता है। अपने सपनों को पूरा करने के लिए धैर्य और कड़ी मेहनत करने की इच्छा ही चाहिए।

vrinda dugar apni painting ke saath

जुड़िये वृंदा से उसकी शीरोज़ प्रोफाइल पर

हमें विश्वास है की #MeetTheSHEROES सिरीज़ ने आपको बहुत ही प्रभावित किया है। कृपया अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और कॉमेंट में वृंदा दुगर​ के लिए स्नेह और इस ऑर्टिकल पर अपनी राय दें।

इस लेख के बारे में कुछ ज़रूरी बातें​ -

वृंदा दुगर​ का इंटरव्यू, पुरस्कार विजेता और स्वतंत्र पत्रकार महिमा शर्मा द्वारा किया गया था । यह लेख केवल उनके अंग्रेजी लेख का हिंदी अनुवाद है ।

आप यहाँ पर वृंदा दुगर​ का अंग्रेजी लेख पढ़ सकती​ हैं |


15548071121554807112
Kanika Gautam
An ardent writer, a serial blogger and an obsessive momblogger. A writer by day and a reader by night - My friends describe me as a nocturnal bibliophile. You can find more about me on yourmotivationguru.com

Explore more on SHEROES

Share the Article :

Responses

  • S*****
    I m speechless ..beautiful paintings ..
  • S*****
    मुझे भी आर्ट एंड क्राफ्ट्स का शौक रहा लेकिन व्यस्तता को लेकर नहीं कर सकी अब फ्री हूँ तो फिर शुरू कर रही हूं ।वृंदा जी आपकी पेंटिंग ्स बहुत ही सुंदर है।
  • D*****
    Muje b painting ka bhut shonk h kbi kbi krti hu . Apki good painting h
  • T*****
    Very nice mai bhi painting karti hu kya mai aap se jud sakti hu🙏
  • S*****
    Very good
  • S*****
    सपनों को पंख दिए
  • H*****
    Very nice
  • N*****
    Bahot khoob
  • I*****
    Ishwer isi prakar aap ko uchaiyo per le jane mein aap ke sath rahe All the best .
  • S*****
    Great
  • P*****
    Waah.. .. har mahilaon k andar vrinda dugar honi chahiye taki humlog bhi apni apni pahchan bna pae.....
  • P*****
    Very good
  • A*****
    Bahut hi ache vichar hai
  • D*****
    Hello mam. Mery beta ko bhe boot shok hai drawing ka or us ke drawing bhe bhooot achi hai . Par mhe us ko parmot karna chati hu . Too aap bataiye ye kyse hoga.plzz
  • D*****
    Very good
  • R*****
    Apki kadi mehnat aur lagan rang lai
  • S*****
    Atisundar vichaar Or apne uper dridh viahwaas Bahut acchi prerna👌🙏
  • D*****
    Your painting is very beautifull
  • A*****
    Aap ki painting bahut acchi lagi hai aapke vichar bahut acche Lage aap Mein Sab kuch karne ka Jazba hai
  • M*****
    Aapko bhut bhut badhai. Aap me talent h. Super . Aaapki kla Ko Namaskar मैं आपसे एक उत्तर जानना चाहती हूं मेरा भतीजा है ट्वेल्थ पास usko painting ka bahut shauk hai. उसने अपने घर की दीवारों पर सुंदर सुंदर चौक से पेंटिंग कर रखी है क्या वह अपनी कला को अपना कैरियर बना सकता है इसके लिए उसे क्या करना होगा उसे कला में प्रैक्टिस करनी चाहिए या उसको छोड़ कर पढ़ाई करनी चाहिए प्लीज सजेस्ट मी मैं आपको उसकी पेंटिंग दिखाऊंगी
  • M*****
    A beautiful painting
  • S*****
    @ so beautiful painting
  • R*****
    @u Dipke aap videos pe apni painting art sikha sakte ho
  • U*****
    Mujhe aapki taraha painting sikhani hai kya ap meri help kar sakate ho
  • M*****
    Ek sahi soch aap ki zindgi Mai vrinda ki tareh badlaw la sakti hai
  • P*****
    Very nice Vranda Great Job
  • D*****
    Amazing.
  • K*****
    Very niceji
  • K*****
    Super women
  • S*****
    Wow very nice.
  • W*****
    Very nice keep it up
  • K*****
    Nice
  • L*****
    Nice
  • A*****
    You r really a star
  • A*****
    Nice & beautiful
  • A*****
    I. I am new here plz spport me to go ahead
  • P*****
    Beautiful painting Vrinda
  • V*****
    🙏🙏🙏
  • G*****
    Your paintings are beautiful you keep make new paintings
  • D*****
    मैने आपके प्रोफाइल में जाके सारी पेंटिंगस देखी बहुत ही अच्छी बनाई है जादू है आपके हाथो में अपने हुनर को आगे बढ़ाया बहुत कम लोग कर पाते है ईश्वर आपको बहुत तरक्की प्रदान करे मुझे भी पेंटिंग का बहुत शोक है पर में इसे आगे नही ले जा पाई ।
  • J*****
    Vranda ji aapke jajbay ko Salam h aap talent ki Khan h aapne apne sapne ko such banaya bahut Kum log hote h Jo apne sapne ko jee pate h Weldon ND congratulations
  • M*****
    Real sheroes......vrunda dugar.
  • J*****
    Bahut sundar lekh